नंबरों के खेल में ‘बाजीराव मस्तानी’ का पलड़ा है ‘दिलवाले’ से भारी

18 दिसम्बर को जब से ये दोनों फ़िल्में रिलीज़ हुई हैं, तब से इन लेटेस्ट रिलीज़ फ़िल्म्स ‘दिलवाले’ और ‘बाजीराव मस्तानी’ का हैंगओवर तो लोगों के सर से उतरने का नाम ही नहीं ले रहा है। इनके थिएटर्स में लगने के बाद से ही ये दोनों फ़िल्में दर्शकों के बीच हॉट टॉपिक बन गई हैं। इसके अलावा, बॉक्स ऑफिस के टॉप पर बने रहने का इनका कम्पटीशन ख़त्म ही नहीं हो रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, शाहरुख – काजोल स्टारर ‘दिलवाले’ ने संजय लीला भंसाली की ‘बाजीराव मस्तानी’ की तुलना में एक बड़ी ओपनिंग की थी। उस के बावजूद, ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श का कहना है कि रोहित शेट्टी की रॉम -कॉम ड्रामा फ़िल्म को ‘बाजीराव’ ने पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने कन्फर्म किया है कि ‘बाजीराव’ का पलड़ा इस समय भारी है क्योंकि दर्शकों की माउथ पब्लिसिटी इस फ़िल्म के फेवर में है, जिस पर ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा की पूरी सहमति है।

उनका मानना है कि ‘दिलवाले’ की स्क्रीनिंग पर बैन लगाने के लिए राईट-विंग समूहों का और बाजीराव मस्तानी के बहिष्कार के लिए प्रदर्शन ने एक हद तक फिल्मों के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन को प्रभावित किया है। नाहटा ने कहा, “यह अविश्वसनीय और सोचा-समझा नहीं था; वर्ना दोनों फिल्मों ने भारी कमाई की होती।” जबकि, ट्रेड एनालिस्ट आमोद मेहरा को लगता है कि फिल्म के सटीक संग्रह को पता करने के लिए तीन हफ़्ते का समय लग जाता है।

नंबरों के खेल में ‘बाजीराव मस्तानी’ का पलड़ा है ‘दिलवाले’ से  भारी