'गुड्डू रंगीला' जनता के लिए है: संगीता अहीर

ऐसा लगता है, परंपरागत प्रेम कहानियों का दौर जैसे चला ही गया हो क्योंकि आज फिल्म निर्माता ज़्यादा वास्तविक कहानी को परोस रहे हैं। हाल ही में, संगीता अहीर, फिल्म 'गुड्डू रंगीला' की निर्माता, ने कहानी पर आधारित विषय पर अपनी थ्योरी शेयर की। वह किसी भी फिल्म में मुख्य नायक उसकी स्क्रिप्ट का मानती हैं। निर्माता ने कहा, “सिनेमा बनाना एक प्रोडक्ट बनाने जैसा नहीं है। यह कहानी है जो मायने रखती है! हम मंगल मूर्ति की सवारी के लिए विचारों का व्यूह बनाने के बारे में सोच रहे हैं।”

गुड्डू रंगीला के डायरेक्टर सुभाष कपूर की तारीफ़ करते हुए उन्होंने कहा, “सुभाष एक ज़बरदस्त राइटर हैं। वह जनता की मानसिकता को समझते हैं और उसी हिसाब से अपनी कहानियां पेश करते हैं जो वास्तविकता को छूती है। उन्होंने सुनिश्चित किया कि यह फ़िल्म मास्सेस और क्लासेज दोनों के लिए है।”

गुड्डू रंगीला एक कॉमेडी फ़िल्म है जिसमे अदिति राव हैदरी, अमित साध, अरशद वारसी और रोनित रॉय प्रमुख रोल में हैं। यह फ़िल्म हरयाणा के मनोज-बबली के ऑनर किल्लिंग केस पर आधारित है। मूवी के बारे में बात करते हुए संगीता ने कहा, “इस फ़िल्म में शायद पुरुष प्रधानता का ज़ोर है, लेकिन इसमें एक औरत की आवाज़ शामिल है। इस कहानी का जनता के साथ खुबसूरत कनेक्शन है कैसे एक आम आदमी खड़ा होता है और खाप पंचायत की निरंकुशता से लड़ता है।”

'गुड्डू रंगीला' जनता के लिए है: संगीता अहीर