गुलज़ार ने नयी पीढ़ी के लिए किया रबिन्द्रनाथ टैगोर की कविताओं का अनुवाद !

ये दोनों भारत के दो महान लेखक हैं और अब गुलज़ार और रबिन्द्रनाथ टैगोर के काम को एक एल्बम के ज़रिये साथ लाया जा रहा है। हाल ही में, सिंगर श्रेया घोषाल, कंपोजर शांतनु मोइत्रा, जया बच्चन, शान और गुलज़ार ने मिलकर ''गुलज़ार इन कन्वर्सेशन विद टैगोर'' नाम की एल्बम को लॉन्च किया है। इस एल्बम में सात गाने हैं, जिन्हें रबिन्द्रनाथ टैगोर की लिखी कविताओं का हिंदी में अनुवाद करके बनाया गया है। ये अनुवाद गुलज़ार ने किया है और इन गानों को सिंगर श्रेया घोषाल और शान ने गाया है। गानों को कंपोजर शांतनु मोइत्रा ने कंपोज़ किया है। इस एल्बम को बनाने और इसमें दिये गये गानों का चुनाव करने में गुलज़ार और शांतनु को तकरीबन 5 सालों का समय लगा।

गुलज़ार ने नयी पीढ़ी के लिए किया रबिन्द्रनाथ टैगोर की कविताओं का अनुवाद !

सिंगर श्रेया घोषाल ने कहा कि वे हमेशा से ही रबिन्द्रनाथ टैगोर के संगीत से जुड़ी रही हैं। वे हर बंगाली व्यक्ति के जीवन का हिस्सा हैं। वहीं सिंगर शान ने कहा कि आज की पीढ़ी को सिर्फ पार्टी और डिस्को नहीं चाहिए। यहाँ बहुत से ऐसे नौजवान हैं जो सूदिंग और सोलफुल म्यूजिक सुनना चाहते हैं। इसलिए ये हमारा कर्तव्य है कि हम उन्हें सुनने के अच्छा म्यूजिक दें। 

loading..