बांड के किसिंग सीन पर बोलीं शबाना, सही लेंथ मुझे समझ नहीं आती

1993 की फिल्म 'कर्मा' में देविका रानी की अपने पति हिमांशु राय के साथ चार मिनट लम्बी सेंसेशनल किस से भले ही सेंसर बोर्ड को कोई आपत्ति न हो पर 2015 के इस दौर में ‘स्पेक्ट्रे’ का एक किसिंग सीन इंडियन सेंसर बोर्ड को आपत्तिजनक लगा। डेनियल क्रेग स्टारर फिल्म इंडिया में रिलीज़ हो चुकी है पर लोग इसके कट्स से खुश नहीं हैं। अभिनेत्री शबाना आज़मी ने हाल ही में इस फिल्म पर बात करते हुए कहा कि उन्हें किसिंग सीन की सही लेंथ समझ नहीं आती।

वूमेन इन द वर्ल्ड सबमिट के दौरान शबाना ने कहा, "बस दो दिन पहले माननीय फिल्म सर्टिफिकेशन बोर्ड के चीफ ने बिना अन्य सदस्यों की सलाह के जेम्स बांड की फिल्म के एक किस सीन को एडिट कर उसकी असल लेंथ से आधी लेंथ कर दी। उन्हें लगता है कि किसिंग सीन देखने के लिए 50 सेकण्ड्स बहुत हैं। मुझे समझ नहीं आता कि सही लेंथ क्या है।"

समान सेक्स रिलेशनशिप पर आधारित फिल्म ‘फायर’ के एक भी सीन ना काटने के निर्णय पर वे हँस पड़ी। नेशनल अवार्ड जीतने वाली इस अभिनेत्री ने कहा, "उस वक़्त के फिल्म सर्टिफिकेशन बोर्ड के सदस्यों में सबसे अच्छी बात यह थी कि उस फिल्म में एक भी कट नही था। उसके बाद उसे थिएटर से बहार निकाल दिया गया था और मिनिस्ट्री ने उसे एक बार फिर बोर्ड को रेफर किया था और सवसे अच्छी बात यह थी कि उन्होंने उसे फिर से बिना किसी कट के रिलीज़ किया था।  

बांड के किसिंग सीन पर बोलीं शबाना, सही लेंथ मुझे समझ नहीं आती

Source: indianexpress.com

टैग्स

Shabana Azmi

loading..