कैटरीना कैफ को स्मिता पाटिल अवार्ड मिला रहा तो लोगों की ऐसी तैसी क्यों हो रही है ?

आखिरी बार आपने कब किसी अवार्ड के लिए इतनी चिक चिक सुनी थी ?

अवार्ड्स का सिलसिला बॉलीवुड में कोई नया नहीं है।  फिल्मफेयर से लेकर स्टार स्क्रीन अवार्ड्स तक बॉलीवुड में काफी लोकप्रिय हैं और इन्हें पाने वाले स्टार्स खुद को काफी खुशकिस्मत समझते हैं।  लेकिन हाल फिलहाल के समय में इन सभी अवार्ड्स के ऊपर सवाल उठने लगे हैं।  इनकी ऑथेंटिसिटी पर लोग अब उंगलियां उठाने लगे हैं क्योंकि इन अवार्ड्स में अब फिल्म से जुड़े पहलुओं से ज़्यादा पॉपुलैरिटी और चमक दमक हावी हो गयी है। 

कैटरीना कैफ को स्मिता पाटिल अवार्ड मिला रहा तो लोगों की ऐसी तैसी क्यों हो रही है ?

जब काजोल को दिलवाले के लिए अवार्ड मिल सकता है ऋचा चड्ढा की मसान को इग्नोर करके, तो यह बात आराम से समझी जा सकती है कि अवार्ड शोज़ की हालात देश में कैसी है खासतौर पर बॉलीवुड की बात की जाए तो। वहीँ उसी समय जब एक प्राइवेट एन जी ओ प्रियदर्शिनी अकादमी द्वारा दिए जाने वाले एक अवार्ड पर इतना हो हल्ला क्यों मच रखा जब ये अवार्ड पहले भी कमर्शियल एक्ट्रेसेस को दिया जा चुका है। 

कैटरीना कैफ को स्मिता पाटिल अवार्ड मिला रहा तो लोगों की ऐसी तैसी क्यों हो रही है ?

एन  जी ओ वगैरह का अवार्ड देना अपने आप में उनके लिए एक मौका होता है खुद की पब्लिसिटी करने का. स्मिता पाटिल के नाम का अवार्ड देना उनके लिए और कुछ नहीं बल्कि पी आर और बॉलीवुड सेलेब्स को खुद से जोड़ने की कवायद है और किसी भी तरह स्मिता पाटिल से सम्बंधित नहीं हैं। और सिर्फ इसलिए कि कैटरीना कैफ एक कमर्शियल एक्ट्रेस हैं , उन्हें  ये अवार्ड दिया जाना खल रहा है ? 


loading..