विवाद के बाद फिल्म 'इंदु सरकार' को मिली महाराष्ट्र सरकार से मदद !

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने निर्माता-निर्देशक मधुर भंडारकर अपनी आगामी फिल्म ‘इंदु सरकार’ के लिए मुसीबत में फंस गए हैं। और इस फिल्म के लिए कांग्रेससियों का गुस्सा झेल रहे हैं। इसलिए उन्हें महाराष्ट्र सरकार की तरफ से दो सुरक्षा गार्ड मुहैया कराये गए हैं। जो फिल्म रिलीज़ तक उनके साथ ही रहेंगे।

दरअसल उनकी फिल्म ‘इंदु सरकार’ इमरजेंसी के दौरान हुई घटनाओं पर आधारित है। फिल्म की कहानी उस समय रही कांग्रेस सरकार जिसमें मुख्य रूप से इंदिरा गाँधी और उनके बेटे संजय गाँधी के इर्द-गिर्द घूमती है। इस फिल्म के विरोध में उतरे कांग्रेससियों का कहना है कि इस फिल्म के जरिये कांग्रेस की छवि ख़राब करने की कोशिश की जा रही है। 

विवाद के बाद फिल्म 'इंदु सरकार' को मिली महाराष्ट्र सरकार से मदद !

इस मामले में मुंबई से कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष संजय निरुपम ने इस फिल्म को रिलीज़ से पहले ही कांग्रेस के बड़े अधिकारियों के आगे दिखाने की मांग की थी। ताकि फिल्म की कहानी को ठीक से समझा जा सके।

वैसे इस तरह के विवाद से फिल्म के प्रमोशन पर खासा प्रभाव पड़ रहा है। ‘इंदु सरकार’ की टीम को पहले पुणे और बाद में नागपुर में होने वाली प्रेस कांफ्रेंस को कैंसिल करना पड़ा। इन सब को देखते हुए मधुर भंडारकर ने राहुल गाँधी को ट्वीट कर पूरा मामला बताया। 

वैसे ये तो फिल्म देखने के बाद ही समझ आएगा कि फिल्म में गाँधी परिवार और इंदु सरकार के दौरान हुई किन घटनाओं की बात की गई है। इस फिल्म कीर्ति कुल्हारी, अनुपम खेर और नील नितिन मुख्य किरदार में दिखेंगे। ये फिल्म 28 जुलाई को रिलीज़ हो रही है।