हिजबुल मुजाहिदीन ने मेरे पिता को अगवा कर, मार डाला था: निम्रत कौर

निम्रत कौर, जो इरफान खान अभिनीत फिल्म ‘लंचबॉक्स’ में अपने शानदार प्रदर्शन की वजह से प्रसिद्धि के मुकाम पर पहुँच गई थी, अब ‘एयरलिफ्ट’ में अक्षय कुमार के अपोजिट नज़र आने वाली हैं, जो 22 जनवरी को रिलीज़ होने जा रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बात करते हुए बॉलीवुड अभिनेत्री ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है। अपनी ज़िन्दगी के बारे में बात करते हुए, निम्रत ने एक हैरान कर देने वाला राज़ बताया कि कैसे कश्मीरी अलगाववादी समूह हिजबुल मुजाहिदीन ने बहुत कम उम्र में ही उनके पिता को मार डाला था।

उन्हें ये कहते हुए सुना गया था, “मेरे लिए पटियाला ही पंजाब है, मुझे बहुत प्यारा है। मेरे पिता के कश्मीर जाने से पहले, यह आखिरी बार ही था जब हम सब पिता के साथ एक परिवार के तौर पर एक साथ थे। वह एक युवा सेना प्रमुख थे, एक इंजीनियर, वेरीनाग नाम की एक जगह पर आर्मी द्वारा बॉर्डर रोड पर पोस्टेड थे (आप जम्मू से श्रीनगर के लिए यात्रा करते हैं तो रास्ते में जवाहर सुरंग के नाम से एक सुरंग आता है। और जो पहली घाटी आती है वो ही वेरीनाग है)। कश्मीर एक फैमिली स्टेशन नहीं था, इसलिए जब वह कश्मीर गए थे, हम पटियाला में ही रह गए थे।

उन्होंने आगे कहा, “हम जनवरी 1994 में अपनी सर्दियों की छुट्टीयां मना रहे थे और अपने पिता से मिलने कश्मीर जा रहे थे, जब हिज्ब -उल- मुजाहिदीन ने उन्हें अपने काम की जगह से अगवा कर लिया और सात दिन के बाद, उन्हें ख़त्म कर दिया। उन्होंने कुछ अजीबोग़रीब मांग रखी थी कि कुछ आतंकवादियों को छोड़ दिया जाये, जिसके लिए वह साफ़ तौर पर राज़ी नहीं हुए थे। वह बस 44 साल के थे, जब उन्हें मार दिया गया। हमें खबर मिली और हम उनकी बॉडी के साथ दिल्ली के लिए वापस निकल गए और मैंने पहली बार उनकी बॉडी को दिल्ली वापस आने के बाद ही देखा था।”

हिजबुल मुजाहिदीन ने मेरे पिता को अगवा कर, मार डाला था: निम्रत कौर