पद्मावती फिल्म का डूबना तय ?

अपनी पिछली फिल्म बाजीराव मस्तानी की अपार सफलता के बाद संजय लीला भंसाली ने सोचा इस बार भी ऐतिहासिक बैकग्राउंड के साथ फिल्म बनाकर अपनी  सफलता को दुहराना उनके लिए आसान होगा।  इसीलिए उन्होंने चित्तौड़ की रानी पद्मावती (पद्मिनी) के जीवन पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया।  लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि इस फिल्म के बनने में जितनी मुश्किलें आ रही हैं, उस हिसाब से इस फिल्म का डूबना लगभग तय हो गया है।  इसके पीछे कई वजहें हैं।  

रानी पद्मिनी की कहानी कोई प्रेम कहानी नहीं है। संजय लीला भंसाली को ऐतिहासिक प्रेम कहानियों में खासियत हासिल है , लेकिन रावल रतन की पत्नी पद्मिनी का अलाउद्दीन खिलजी के प्रेम निवेदन को अस्वीकार करना और उसकी वजह से युद्ध का होना किसी प्रेम कहानी का हिस्सा नहीं कहा जा सकता। रानी पद्मिनी की कहानी जौहर की कहानी है, बलिदान की कहानी है, इसमें संजय लीला भंसाली मार्का रोमांस की गुंजाइश नज़र नहीं आती , और अगर वो इसमें रोमांस डालने की कोशिश करते हैं तो ये उस कहानी की मूल भावना के बिलकुल विपरीत होगा। 

पद्मावती फिल्म का डूबना तय ?

रानी पद्मिनी के ऐतिहासिक महत्त्व को नकारा नहीं जा सकता , हालांकि कई इतिहासकारों का मानना है कि ऐसी कोई रानी हुई ही नहीं। चाहे कुछ भी कहा जाए, पूरे राजस्थान में रानी पद्मिनी एक बेहद पूजित नाम है। उनके जौहर के चर्चे को राजपूताना में काफी सम्मान की नज़र से देखा जाता है। उसे फिल्म में उतारने में संजय से कोई  भी त्रुटि हुई तो ये काफी गलत होगा।  

पद्मावती फिल्म का डूबना तय ?

फिलहाल इस फिल्म की शूटिंग राजस्थान में होनी ही तय हुई थी, लेकिन राजपूत समूह के विरोध के बाद वहाँ शूटिंग करना काफी मुश्किल लग रहा है। पहले से ही फिल्म की शूटिंग में काफी देर हो चुकी है।  बीच में सेट्स पर हुई एक असामयिक मृत्यु की वजह से  फिल्म को धक्का लगा था। इन सभी कारणों की वजह से ऐसा लगता है इस फिल्म का सफल होना मुश्किल है।