स्मिता और मैं कभी भी दोस्त नहीं बन पाए थे: शबाना आजमी

बॉलीवुड अभिनेत्री स्मिता पाटिल की 60वीं जयंती के अवसर पर, शबाना आज़मी, जो स्मिता पाटिल के साथ ही उस ज़माने का जानामाना चेहरा थी, ने खुलासा किया कैसे उन दोनों के बीच मतभेद का बीज उपजा था और कैसे कई कोशिशों के बावजूद भी इन दोनों के बीच कुछ ठीक नहीं हो सका। “स्मिता और मैं कभी भी दोस्त नहीं रह पाए। हमारे बीच की राइवलरी, जिसे कुछ मीडिया ने हवा दी थी और कुछ सच थी, ने हमेशा तनाव को जन्म दिया था”, शबाना का कहना था।

दिग्गज अभेनेत्री ने आगे कहा, “मैंने पहले भी ये कहा है...और आज भी कहती हूँ...मैं खुद को उनके बारे में कठोर बातें कहने का दोषी मानती हूँ। मुझे इसका अफ़सोस है। हमने सुलह करने की बहुत कोशिश भी की थी और हमने अपने बीच की सभ्यता को कायम रखा था, लेकिन हम कभी भी दोस्ती नहीं कर पाए थे। लेकिन ये बातें हमारे परिवारों के बीच कभी नहीं आई थी।”

मैथिलि राव की किताब ‘स्मिता: अ ब्रीफ इन्कन्डेसन्स' के लॉन्च इवेंट पर स्मिता के बेटे प्रतीक ने शबाना को “मासी” कह कर इंट्रोड्यूस किया था। “इंसान के रिश्ते बहुत जटिल होते हैं और जिस तरह का भरोसा इन्होने (स्मिता के परिवार) मुझ पर रखा है उसके लिए मैं एहसान मंद हूँ। मुझे याद है एक बार इन्होने प्रतीक के करियर के बारे में सही फैसला लेने के लिए मुझे फ़ोन किया था”, शबाना ने कहा।

स्मिता और मैं कभी भी दोस्त नहीं बन पाए थे: शबाना आजमी