स्वरा भास्कर ने किया विरोध आर्टिकल 377 का

बॉलीवुड की अन्य सेलिब्रिटीज की तरह, स्वरा भास्कर, भी लेस्बियन, बाईसेक्सुअल, ट्रांसजेंडर कम्युनिटी के सपोर्ट के लिए सामने आई हैं और आर्टिकल 377 को ‘शेमफुल’ बुला कर इसका विरोध किया है। "यह एक शर्मनाक बात है कि हमारे जैसे लोकतंत्र में,  आर्टिकल 377 की तरह एक कानून है जो ऐसी कम्युनिटी और उनकी हरकतों को अपराधी करार करता है जो हमारा हिस्स हैं, हमारे देश का हिस्सा हैं। यह दुखद है", एक्ट्रेस ने कहा जिसने तनु वेड्स मनु रिटर्न्स में पायल का रोल निभाया था।

रांझणा की बिंदिया ने आईएएनएस को आगे कहा, “यह बहुत ज़रूरी है कि कानून को बदला जाये। ऐसा कानून बनाना ठीक नहीं है जो समलैंगिकता या अप्राकृतिक सेक्स या जो भी अजीब भाषा इसमें इस्तेमाल की गई है, उसे अपराध बनाता है। आप ना केवल समलैंगिक बल्कि हेटेरोसेक्सुअल लोगों को स्टेट के एजेंट यानि पुलिस के हाथ की कठपुतली बना रहे हैं। जो पिछले साल हमने विभिन्न मामलों में देखा था।

स्वरा ने यह भी कहा, “हमारे समाज में सहिष्णुता की एक वास्तविक समस्या है और यह केवल बढ़ रही है। यह बहुत अजीब बात है क्योंकि हमेशा से ही भारत सिंधु घाटी काल से बहुसांस्कृतिक, बहुभाषी, बहुजातीय चीज़ों का गवाह रहा है। लोगों के रूप में, हम इस समाज में अलग तरह से रहने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा असहिष्णु होते जा रहे हैं। यह नज़रिए का अंतर हो सकता है जैसे मीट बैन कंट्रोवर्सी, या विचारों में अंतर, या सेक्सुअलिटी में अंतर, जो समाज के लिए दुख की बात है।”

स्वरा भास्कर ने किया विरोध आर्टिकल 377 का