ये 5 कारण साबित करते हैं कि अक्षय कुमार अपने नेशनल अवार्ड के सच्चे हक़दार हैं !

100 से ज़्यादा फ़िल्में, 25 सालों की मेहनत और अनगिनत घंटों के स्ट्रगल के बाद राजीव हरी ओम भाटिया यानी अक्षय कुमार आज इतने बड़े मक़ाम पर पहुँचे हैं। अक्षय के पास आज बेस्ट एक्टर का नेशनल अवार्ड है और किसी को इस बात की भनक तक नहीं थी कि अक्षय को ये अवार्ड मिलेगा। जहाँ कई लोग इस निर्णय को अपने मत के साथ विभाजित हो गए हैं वहीं हम अक्षय को उनकी इस सबसे बड़ी उपलब्धि के लिए शुभकामनायें देते हैं।

ये 5 कारण साबित करते हैं कि अक्षय कुमार अपने नेशनल अवार्ड के सच्चे हक़दार हैं !

अक्षय की इस जीत के ख़ास होने के कई कारण हैं। एक एक्टर्स जो केवल अपने एक्शन स्किल्स की बदौलत इंडस्ट्री में आया था, जिसने अपने मेहनत से हर कदम पर जीत हासिल की वो आज यहाँ हमारे सामने है। ये नेशनल अवार्ड अक्षय की फिल्म रुस्तम या एयरलिफ्ट के लिए नहीं है बल्कि उनके दो दशकों से चलते आ रहे बेहद दिलचस्प करियर का सार है।

आइये आपको बताये 5 ऐसे कारण जिससे ये साबित हो जायेगा कि अक्षय अपने इस नेशनल अवार्ड के सच्चे हक़दार हैं -

जब भी जूरी एक्टर्स में से एक विजेता को चुनती है तो शायद 20 ऐसे लोग होते हैं, जिन्हें लगता है कि उनके साथ धोखा हुआ है। 2016 कई अलग-अलग जॉनर्स के एक्सपेरिमेंट्स का साल रहा और इस साल की कोई भी परफॉरमेंस विजेता के रूप में नहीं देखी गयी। अक्षय फिल्म 'एयरलिफ्ट' और 'रुस्तम' दोनों में ही बेहतरीन थे और अगर नेशनल अवार्ड्स की जूरी को लगता है कि अक्षय बेस्ट एक्टर का अवार्ड जीतने के लायक हैं तो इस मामले में संदेह काने की कोई ज़रूरत ही नहीं है।

जहाँ इंडस्ट्री में उनके करियर को एक्शन की वजह से पहचान मिली लेकिन बाद में अक्षय ने अपनी कॉमेडी का जादू का दर्शकों पर बिखेरा। पिछले कुछ समय में उनके सिनेमा के चयन की वजह से भी उनकी एक्टिंग की क्षमता दर्शकों को देखने को मिली। इसके अलावा अक्षय ने ये साबित किया है कि वे अलग-अलग तरह के किरदारों के साथ भी सफल बने रह सकते हैं।

ये 5 कारण साबित करते हैं कि अक्षय कुमार अपने नेशनल अवार्ड के सच्चे हक़दार हैं !

अक्षय ने अपने सिनेमा चयन में बहुत बड़े बदलाव किये हैं। स्पेशल 26 से लेकर बेबी, एयरलिफ्ट, रुस्तम, जॉली एलएलबी 2 तक अक्षय ने अपने आप को और बेहतर बनाया है। जहाँ कई सितारे अपने आप को साँचे से निकाल पाने में चकरा जाते हैं वहीं अक्षय ने अपने साँचे को तोड़ नये तरीकों को आज़माया है।

जो लोग सिनेमा को केवल मोंरजन के लिए देखने हैं उन्हें अक्षय ने कभी निराश नहीं किया। और जिस तरह से अक्षय ने सामाजिक रूप से उपयुक्त कहानियों को मनोरंजन के साथ मिलाकर बनाया है ये देखना काफी अच्छा लगता है। जहाँ उन्होंने सामाजिक कारणों से जुड़कर अपने मन को शांति दी वहीं उन्होंने दर्शकों को थिएटर तक आने के लिए भी उकसाया।

ये 5 कारण साबित करते हैं कि अक्षय कुमार अपने नेशनल अवार्ड के सच्चे हक़दार हैं !

जहाँ हम अपने और भी बहुत से आईडिया अक्षय के सपोर्ट में दे सकते हैं वहीं इस दिन को थोड़ा हल्का-फुल्का और ख़ुशनुमा जाने देते हैं। अगर आपको कोई ऐसा मिले जिसे अक्षय के बेस्ट एक्टर का अवार्ड जीतने से दिक्कत हो तो उसे ये आर्टिकल पढ़ा दीजियेगा !