जानिए क्या खास है फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' में !

साल की सबसे विवादित फिल्म कहीं जाने वाली 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' लाख विवादों के बाद आखिरकार ये फिल्म 21 जुलाई को रिलीज़ हो रही है। फिल्म की कहानी ऐसी चार महिलाओं के इर्द-गिर्द घूमती है जो अपनी इच्छाओं को पूरा करना चाहती हैं। फिल्म से उम्मीदें लगाई जा रही थी कि उसमें सिर्फ सेक्स के सिवा कुछ नहीं है, इसलिए इसे भारत में बैन भी किया गया था। लेकिन सबकी उम्मीदों से एक दम परे ये फिल्म कुछ अलग ही कहानी बयां करती है

जानिए क्या खास है फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' में !

लोगों की मानसिकता और सोच से हट कर ये फिल्म अपने आप में बहुत खास है। निर्देशक अलंकृता श्रीवास्तव ने इस फिल्म की कहानी के जरिये उन हजारों कहानियों को उजागर कर दिया है जिनका दम बुर्का नाम के परदे में घुटता है।

जानिए क्या खास है फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' में !

कहा जा रहा था कि फिल्म ने अश्लीलता की सारी हदें पार कर दी है, लेकिन समाज को आईना दिखाना किसी भी हद में सीमित नहीं है। इस फिल्म के जरिये पुरुष प्रधान प्रथा और उनकी नपुंसक मानसिकता को समाज के कटघरे में ला खड़ा किया है

जानिए क्या खास है फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' में !

इस फिल्म को अलंकृता ने ही लिखा है, इस फिल्म के टाइटल के हिसाब से बुर्का सिर्फ वो परदा है जिसे महिला हटा देना चाहती हैं, उन्हें उनकी आंतरिक इच्छाएं रखने और उन्हें पूरा करने की आज़ादी होनी चाहिए। इसी अलग कांसेप्ट और दमदार एक्टिंग के लिए ये फिल्म एक बार ज़रूर देखी जानी चाहिए

जानिए क्या खास है फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' में !