रॉक ऑन 2 रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग और इमोशनल ड्रामा के चक्कर में पीछे छूट गया म्यूजिक।

2008 में आयी फिल्म 'रॉक ऑन' का सीक्वल फिल्म 'रॉक ऑन 2' आज सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है। ये कहानी है तीन दोस्त - आदि (फरहान अख्तर), केडी (पूरब कोहली) और जो (अर्जुन रामपाल) की समय के साथ बदल गए हैं। उनकी उम्र के साथ-साथ काफी कुछ बदल गया है। जहाँ केडी (पूरब कोहली) आज भी संगीत से जुड़कर नया म्यूजिक बना रहा है वहीं जो (अर्जुन रामपाल) एक सफल आदमी और एक म्यूजिक शो का जज है जिसका अपना म्यूजिक क्लब भी है और आदि (फरहान अख्तर) अपने अतीत से भागने की कोशिश कर रहा है।

रॉक ऑन 2 रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग और इमोशनल ड्रामा के चक्कर में पीछे छूट गया म्यूजिक।

फिल्म इन तीनों की ज़िन्दगी के इर्द-गिर्द घूमती है। इसके अलावा कहानी का एक मुख्य हिस्सा है जिया (श्रद्धा कपूर)। जिया एक बड़े संगीतकार की बेटी है, जिसके गाने के ख्वाब उसके भाई की मौत के साथ गुम हो गए हैं। जिया के पिता का फैन उदय (शशांक अरोड़ा) उन्हें अपना गाना सुनाता है और जिया से दोस्ती कर लेता है। अपने सामने को पूरा करने के लिए ये दोनों केडी के ऑफिस पहुँचते हैं और तब शुरू होती है असली कहानी।

रॉक ऑन 2 रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग और इमोशनल ड्रामा के चक्कर में पीछे छूट गया म्यूजिक।

अपने अतीत से भागते आदि के किरदार के साथ फरहान ने पूरा न्याय किया है। अर्जुन रामपाल बेहद हॉट लग रहे हैं और पूरब कोहली इस फिल्म में भी पहली फिल्म जितने ही एनरजेटिक हैं। श्रद्धा कपूर और शशांक अरोड़ा की एक्टिंग भी अच्छी है। प्राची देसाई ने आदि की पत्नी के अपने किरदार को अच्छे से निभाया है। कुल-मिलाकर सभी की एक्टिंग कमाल थी।

रॉक ऑन 2 रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग और इमोशनल ड्रामा के चक्कर में पीछे छूट गया म्यूजिक।

इस फिल्म में सोशल इशू को भी दिखाया गया है। आदि (फरहान) कैसे मेघालय के लोगों की भलाई करने की कोशिश में लगा हुआ है और अपनी कोशिश में वो कामयाब होता है या नहीं ये देखना काफी दिलचस्प है। लेकिन मेघालय की खूबसूरती को और दिखाया गया होता तो अच्छा होता। इसके अलावा ये फिल्म आपको मेजर फ्रेंडशिप गोल्स देती है। भले ही आदि, जो और केडी की ज़िंदगी बदल गयी है लेकिन उनके बीच जो एक चीज़ नहीं बदली है वो है उनकी दोस्ती। ये सब मिलकर अपने बैंड 'मैजिक' को दोबारा शुरू करते हैं और  फरहान के साथ श्रद्धा भी गाती हैं।

रॉक ऑन 2 रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग और इमोशनल ड्रामा के चक्कर में पीछे छूट गया म्यूजिक।

बात करें फिल्म के म्यूजिक की, तो फिल्म का म्यूजिक काफी अच्छा है, लेकिन मूवी के इमोशनल ड्रामा के चलते संगीत पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया गया है। हालाँकि एल्बम कुछ ख़ास नहीं है लेकिन जब आप फिल्म को देखते हुए गाने सुनते हो तो आप उनसे जुड़ा हुआ महसूस करते हो। श्रद्धा कपूर और फरहान अख्तर ने बेहद खूबसूरती से गानों है। इसके अलावा फिल्म में नार्थ ईस्ट के संगीत को भी लिया गया है जो कि बेमिसाल है। कुल-मिलाकर ये फिल्म काफी अच्छी थी और इसे सभी को एक बार तो ज़रूर देखना चाहिए।