दर्द पर मरहम जैसी आवाज़ वाली गीता दत्त के ये 10 गाने आज भी हमारे जहन में बसे हुए हैं !

1947 में बॉलीवुड में बतौर सिंगर अपने करियर की शुरुआत करने वाली सिंगर गीता दत्त की ज़िन्दगी के बारे में आप कुछ ही जानते होंगे। लेकिन उनके गाने आज भी हम सभी के दिलों में बसे हैं। गुज़रे ज़माने के स्टार रहे एक्टर गुरु दत्त की पत्नी गीता ने अपने करियर जितनी ऊंचाई देखि अपने जीवन में उतनी ही परेशानियां भी सही। उनके गानों में उनकी ख़ुशी और ग़म दोनों झलकता था। गीता हमेशा अपने गानों को अपने दिल से निकलकर रख देती थीं।

अपने पूरे सिंगिंग करियर में गीता ने भजन से लेकर कैबरे गीत और प्यार और दर्द से भरे गानों से लेकर लोरियों तक सभी तरह के गाने गाये। गीता के गानों में कुछ अलग ही बात थी। इसीलिए आज हम आपके लिए लाये हैं उनके 10 बेहतरीन गाने -

1. वक़्त ने किया क्या हसीं सितम 

2. बाबु जी धीरे चलना 

3. तदबीर 

4. जाने क्या तूने कही 

5. पिया ऐसो जिया में 

6. ना जाओ सैय्यां 

7. जाने कहा मेरा जिगर गया जी 

8. मेरा नाम चिन चिन चु

9. ये लो मैं हारी पिया 

10. जा जा जा बेवफा 

मेरी आवाज़ ही पहचान है अगर याद रहे!