बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

बॉलीवुड के डायरेक्टर्स को ये बात अब मान लेनी चाहिए कि वे अपनी ही फिल्मों के हैंगओवर में हैं। ये सोचना अजीब होने के साथ-साथ फनी भी है कि वे जब भी कोई नयी फिल्म बनाना शुरू करते हैं, अंत तक आते-आते वे हमें वहीं पुरानी जैसी फिल्म दे देते हैं। आइये बात करते हैं बॉलीवुड के 6 ऐसे डायरेक्टर्स के बारे में जो दर्शकों को हमेशा एक जैसी कहानी वाली फ़िल्में परोसते हैं।

प्रियदर्शन

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

प्रियदर्शन मुश्किलों से भरी कॉमेडी फ़िल्में दिखाने के राजा है। सब किसी को उलझाने की बात हो तो प्रियदर्शन से बेहतर कोई और हो ही सकता है। फिल्म हेरा फेरी से भूल भूलैया तक उनकी हर फिल्म उनकी पहली फिल्म जैसी ही है।

करण जौहर

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

करण हमेशा सी ही लव ट्रायंगल वाली फिल्मों के हैंगओवर में जी रहे हैं। फिल्म 'कुछ कुछ होता है' से लेकर 'स्टूडेंट ऑफ़ द ईयर' तक उनकी हर फिल्म एक ऐसी इंसान के बारे में होती है, जो या तो फ्रेंडज़ोन हो जाता है या पीछे छूट जाता है। उनकी फिल्म 'कुछ कुछ होता है' से करण का प्यार और दूसरी फिल्मों में उसके गाने और कुछ सीन्स को कॉपी करने की आदत साफ़ करती है कि करण अपनी ही फिल्म के हैंगओवर में हैं।

संजय लीला भंसाली

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

भले ही संजय बॉलीवुड के सबसे बेहतरीन डायरेक्टर्स में से एक हैं लेकिन वे इस बात का सबसे सटीक उदाहरण हैं कि वे अपनी ही फिल्म के हैंगओवर में रहते हैं। उन्हें अपनी फिल्म के किरदारों की मौत, अपने किरदारों के प्रेमियों को दर्द में देखना और उनके अंत में मिलने की गौरंटी के बिना फिल्म बनाना अच्छा लगता है। हैपी एंडिंग्स ऐसी चीज़ हैं जो संजय की फिल्मों में हमेशा नहीं मिलती और अपनी हर फिल्म के साथ वे खुद शो 'गेम ऑफ़ थ्रोन्स' के लेखक बनते जा रहे हैं।

इम्तियाज़ अली

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

एक लड़का और लड़की मिलते हैं, ज़्यादातर किसी सफ़र के दौरान (फिल्म 'जब वे मेट', 'तमाशा', 'जब हैरी मेट सजल') और उन्हें प्यार हो जाता है। कुछ ज़रूरी परेशानियों और लड़ाईयों के बाद वे अंत में दोनों मिल जाते हैं। एक और ख़ास बात ये हैं कि इम्तियाज़ अपनी फिल्म में किसी भी विलेन को नहीं लेते हैं। अंत में सबकुछ खुशहाल हो जाता है।

रोहित शेट्टी

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

हवा में कार उड़ाना और बिना बात की स्टोरी बनाना रोहित की खासियत है और वे अपनी पहली फिल्म के समय से अभी तक हैंगओवर में हैं। रोहित ने एक ही जैसी इतनी फ़िल्में बनाई हैं कि लोगों ने उनके स्टाइल को एक अलग जॉनर समझ लिया है।

अनुराग बासु

बॉलीवुड के ये 6 डायरेक्टर्स हमेशा एक जैसी ही फ़िल्में बनाते हैं !

लगता है फिल्म 'बर्फी' का हैंगओवर अनुराग के सिर से नहीं उतरा है। तभी तो उनकी फिल्म 'जग्गा जासूस' में भी वहीं सबकुछ देखने को मिला तो हम पहले बर्फी में चुके थे। फिल्म के विजुअल, म्यूजिक, प्रेजेंटेशन और रणबीर ने मिलकर सभी को 'बर्फी' की खूब याद दिलाई।