अरनब गोस्वामी और रजत शर्मा समेत कुछ पत्रकारों ने देखी फिल्‍म 'पद्मावती', जानिए क्या कहना है इनका !

दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह स्टारर फिल्‍म ‘पद्मावती’ का तमाम जगहों के राजपूत नेता और करणी सेना विरोध कर रहे हैं। शुक्रवार को राजस्थान के प्रसिद्ध चित्तौड़गढ़ किले में प्रवेश बंद कर दिया गया। मुंबई पुलिस ने फिल्म के विरोध के दौरान कानून को अपने हाथों में लेने वाले संगठनों और लोगों के खिलाफ चेतावनी भी जारी की है। फिल्म ‘पद्मावती’ को लम्बे समय से कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है और फिल्म के निर्माताओं और कलाकारों को प्रदर्शनकारी संगठनों से तरह-तरह की धमकियां मिल रही है।

अरनब गोस्वामी और रजत शर्मा समेत कुछ पत्रकारों ने देखी फिल्‍म 'पद्मावती', जानिए क्या कहना है इनका !

जहां प्रदर्शनकारी राजपूत इतिहास की विकृतियों को ना दिखाने देने की कोशिश में लगे हैं वहीं सत्तारूढ़ भाजपा ने भी कहा है कि फिल्म निर्माताओं को ऐतिहासिक तथ्यों को विकृत नहीं करना चाहिए। ऐसे में ‘पद्मावती’ को अरनब गोस्‍वामी और रजत शर्मा जैसे टीवी पत्रकारों का समर्थन मिला है। फिल्‍म के प्रोड्यूसर्स ने कुछ पत्रकारों के लिए स्‍पेशल स्‍क्रीनिंग रखी थी। फिल्‍म देखने के बाद अरनब ने इसे ‘राजपूतों के लिए सबसे बड़ी श्रद्धांजलि’ बताया। अरनब ने अपने प्राइम टाइम शो में कहा कि फिल्‍म का हर सीन रानी पद्मावती की महानता को एक सिनेमाई ट्रिब्‍यूट है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जब फिल्‍म बॉक्‍स ऑफिस पर रिलीज होगी तो करणी सेना एक बार फिर खुद को बेवकूफ साबित करेगी।

वहीं रजत शर्मा ने कहा कि फिल्‍म का कोई भी सीन राजस्‍थान के लोगों या राजपूतों की आन-बान-शान के खिलाफ नहीं है। उन्‍होंने अपने प्राइम टाइम शो में कहा कि फिल्‍म देखने के बाद मैं दावे से कह सकता हूं कि कोई नहीं कह पाएगा कि पूरी फिल्‍म की थीम में कुछ ऐसा है कि हमारे गौरवशाली राजपूती इतिहास के खिलाफ हो

वरिष्‍ठ पत्रकार वेद प्रताप वैदिक ने कहा है कि पूरी फिल्‍म में कहीं भी ऐसी बात नहीं है कि जिससे यह अंदेशा हो कि पद्मावती और अलाउदीन के बीच जरा भी आकर्षण हो। पद्मावती साहस और चतुराई की मिसाल हैं जो कि इस फिल्‍म में दिखाया गया है।

यह फिल्म एक दिसंबर को रिलीज होगी। केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने भी फिल्‍म को मंजूरी नहीं दी है। फिल्म शायद स्थगित हो सकती है, लेकिन निर्माताओं द्वारा आधिकरिक बयान अभी जारी नहीं किया गया है। फिल्म की रिलीज पर बढ़ते विरोध को देखकर मुंबई पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को किसी प्रकार की बुरी घटना को अंजाम न देने की चेतावनी दी है।