जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

इस शुक्रवार फ़िल्मी पर्दे पर दो फिल्में रिलीज़ हो रही हैं। जहां एक गैंगस्टर दाउद की बायोग्राफिकल ड्रामा है वहीं दूसरी एक्शन थ्रिलर है,जिसमें पिता और पुत्री  के रिश्ते को दिखाया गया है। दोनों ही फिल्मों को बड़े एक्टर्स ने किया है और पॉपुलर डायरेक्टर्स ने इन्हें डायरेक्ट किया है। इनके ट्रेलर्स ने हमारे बीच थोड़ी उत्सुकता जरूर जगा दी थी लेकिन दोनों में से कोई एक फ़िल्म ही होगी जो बॉक्स-ऑफिस पर हिट साबित होगी। ये देखना दिलचस्प होगा कि संजय दत्त एक पिता के रूप में या श्रद्धा कपूर दाउद की बहन बनकर अपना जादू चला पाती हैं। आइये जानते हैं इस क्लैश की कुछ स्पेशल बातें-

जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

संजय दत्त

संजय दत्त का यहां नाम लेना बहुत जरूरी है। उन्हें हमने आखिरी बार 2014 में राजकुमार हिरानी की फ़िल्म 'पीके' में देखा था। संजय दत्त की जेल से छूटने के बाद ये पहली फ़िल्म है। संजय दत्त के अनुसार वो किसी बेहतरीन स्क्रिप्ट के इंतज़ार में थे जिससे वो कमबैक करें और भूमि के ट्रेलर के बाद इस फ़िल्म के लिए लोगों का सकारात्मक रवैया सामने आया।

जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

डायरेक्टर अपूर्व लाखिया और ओमंग कुमार

भूमि को ओमंग कुमार ने डायरेक्ट किया है जो इससे पहले पॉपुलर फ़िल्म 'मैरी कॉम' और 'सरबजीत' बनायीं थी। अपूर्व लाखिया ने फ़िल्म 'शूटआउट एट लोखंडवाला' बनाई थी। दोनों ही डायरेक्टर्स ने किसी के जीवन पर फ़िल्म बनाई है और दर्शकों को उसके खारेपन ने बांधा। ये दोनों फिल्में कैसा करेंगी ये देखना दिलचस्प होगा।

जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

स्टोरी

हसीना दाउद इब्राहीम की असल ज़िन्दगी की बहन हसीना पारकर पर बनी है। कहानी इस बात पर फोकस करेगी कि कैसे 4 बच्चों की माँ नागपाड़ा की डॉन बन जाती है। श्रद्धा कपूर हसीना का किरदार निभा रही हैं और उनके भाई सिद्धांत कपूर फ़िल्म में दाउद इब्राहीम का किरदार निभा रहे हैं। वहीं भूमि एक ऐसे पिता की कहानी है जो अपनी बेटी की रक्षा करने के लिए कुछ भी कर सकता है। संजय दत्त और अदिति राव हैदरी पिता और पुत्री के किरदार में नज़र आयेंगे।

जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

श्रद्धा कपूर

श्रद्धा पॉपुलर एक्ट्रेसेज़ में से एक हैं और उन्होंने इस तरीके का रोल कभी नहीं किया है। ये किरदार उनके लिए चैलेंज से भरा होगा और ये देखना दिलचस्प होगा कि वो इसे पर्दे पर किस तरह प्रदर्शित करती हैं। सिद्धांत,श्रद्धा के सगे भाई हैं और वो इसमें दाउद के किरदार में किस तरह लगेंगे इसको देखना मजेदार होगा।

जानिये : फ़िल्म 'भूमि' और 'हसीना पारकर' में कौन है बेहतर!

सपोर्टिंग कास्ट

दोनों ही फ़िल्मों में बेहद अच्छी स्टार कास्ट है और जैसा कि ये संजय दत्त की कमबैक और श्रद्धा कपूर के लिए अलग किरदार वाली फिल्म थी। इसमें सपोर्टिंग किरदारों का भी बेहतर रोल होगा जैसा की ट्रेलर को देखकर लग रहा है।