देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

फिल्म इंडस्ट्री में अपनी अलग पहचान बनाने के लिए और इसी पहचान को आगे तक बनाये रखने के लिए स्टार्स की उम्र बीत जाती है। लेकिन कुछ ऐसे भी कलाकार है जिनकी कला, मेहनत और सच्चाई का जादू सालों बरक़रार रहता है। हम बात कर रहे हैं एक्ट्रेस सुष्मिता सेन की। सुष्मिता अब फिल्मों में बेशक कम ही नज़र आती हों लेकिन आज भी उनका रुतबा कायम है। आज भी उनकी वही पॉपुलैरिटी है जो उनके शुरूआती दिनों में थीं।

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

19 नवम्बर 1975 को हैदराबाद में जन्मी सुष्मिता एक बंगाली परिवार से ताल्लुक रखती हैं। उनके पिता शुभर सेन इंडियन एयर फ़ोर्स में विंग कमांडर थे जबकि मां शुभ्रा सेन ज्वैलरी डिजायनर होने के साथ ही दुबई के एक स्टोर की मालकिन हैं। सुष्मिता के दो भाई बहन नीलम और राजीव सेन हैं। सुष्मिता ने दिल्ली के एयरफोर्स गोल्डन जुबली इंस्टीट्यूट और सिकंदराबाद के सेंट एन्नस हाई स्कूल से पढ़ाई की है। 

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

सुष्मिता का बचपन से मॉडलिंग की तरफ रुझान था। इसलिए उन्होंने अपनी टीनएज में ही कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेना शुरू कर दिया। उसमें से एक था फेमिना मिस इंडिया कांटेस्ट। सुष्मिता इस कांटेस्ट में विजयी हुई उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इसके बाद उन्होंने मिस यूनिवर्स की प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व किया और पहली मिस यूनिवर्स बनकर देश वापस लौटीं। 

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

फिल्म 'दस्तक' से फिल्म इंडस्ट्री में डेब्यू करने वाली सुष्मिता ने बहुत कम उम्र कई जिम्मेदारियों को उठाया। वो छोटी उम्र में ही एक प्यारी सी बच्ची रेनी की माँ बन बैठी। दरअसल  रेनी को उन्होंने साल 2000 में गोद लिया था। उसके बाद साल 2010 में दूसरी बेटी को गोद लिया। पहले सुष्मिता की इस पहल की सबने खूब आलोचना की। लेकिन अब उनकी तारीफ़ करते लोग नहीं थकते। 

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

सुष्मिता ज़्यादातर वक़्त अपनी दोनों बेटियों के साथ बिताती हैं। वो अक्सर दोनों की तस्वीरें अपने सोशल एकाउंट्स पर शेयर करती हैं। सुष्मिता बिना शादी के 2 प्यारी सी बेटियों की ज़िम्मेदारी अकेले उठा रही हैं। वो इस समाज के लिए खास कर महिलाओं के लिए एक उदाहरण बन कर उभरी हैं। उनके इस सराहनीय कदम के बाद इंडस्ट्री में बहुत से कलाकारों ने बच्चों को गोद लिया है। 

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

सुष्मिता के बॉलीवुड करियर की बात करे तो उन्होंने बहुत सी हित फ़िल्में दी हैं। उनमें से सलमान के साथ 'बीवी नंबर 1' और शाहरुख़ के साथ 'मैं हूं न' सबकी सबसे फेवरेट फिल्म है। फिल्मों के अलावा सुष्मिता कई एनजीओ और सोशल प्रोजेक्ट्स से जुड़ी हैं। 

देश की पहली 'मिस यूनिवर्स' सुष्मिता सेन ऐसे बनी महिलाओं के लिए बड़ा उदाहरण !

सामाजिक न्याय के लिए उन्हें छठे मदर टेरेसा मेमोरियल इंटरनेश्नल अवार्ड से भी नवाजा गया।