अमोल पालेकर ने दी प्रतिक्रिया राहुल रवैल की टिप्पणी पर

 मराठी - अंग्रेजी फिल्म कोर्ट को ऑस्कर के लिए भारत की एंट्री के रूप में चुना गया है और इसने भारत के फिल्म फेडरेशन के दो सदस्यों, राहुल रवैल और अमोल पालेकर के बीच एक विवाद को जन्म दे दिया है। फैसले की घोषणा के तुरंत बाद राहुल ने ट्विटर पर समिति से अपने इस्तीफे की घोषणा कर दी। उनका दावा है कि अमोल निर्णय लेने की प्रक्रिया के दौरान "जोड़ तोड़" करते दिखे हैं। अमोल जिन्होंने इस सब के दौरान मौन रखा था, आखिरकार बोल पड़े हैं। 

"मैं केवल दो बातें कहूँगा। सबसे पहले, सभी जूरी सदस्यों को भारतीय फिल्म फेडरेशन द्वारा इस प्रक्रिया के बारे में गोपनीयता और सीक्रेसी बनाए रखने के लिए कहा जाता है। मैं निश्चित रूप से इसे भंग नहीं करना चाहता हूँ, जब तक फिल्म फेडरेशन से औपचारिक अनुमति ना ले लूँ। दूसरी बात, राहुल के बारे में, मैं अपने आरोपों का जवाब नहीं देना ही पसंद करूँगा। मैं इसे दुर्भाग्यपूर्ण कह कर छोड़ दूंगा”, अमोल ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया।

राहुल रवैल ने अमोल पालेकर पर ये कहते हुए आरोप लगाया, “ “उस कमरे के अंदर बहुत सारी गड़बड़ी हुई है। वोट्स बदलना, वोट्स की गलत काउंटिंग, वोट्स के गलत नंबर बताना इन गड़बड़ियों में से कुछ हैं।  मैंने एक बार फिर से चुनाव के लिए मांग की। मैंने अमोल को कहा, मुझे वोट दिखाने के लिए लेकिन उन्होंने मुझे मना कर दिया। मैंने स्पष्ट रूप से उन्हें बोला कि मैं उन पर बिल्कुल भरोसा नहीं करता हूँ। मैंने बार बार रि-काउंटिंग के लिए ज़ोर दिया और मुझे क्या हैरान कर गया कि तीन फिल्मों के मतदान की गिनती गलत निकली।“ उन्होंने यह भी कहा, “उनके सहयोगी सभी जूरी के सदस्यों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहा थे जो बिल्कुल नैतिकता के खिलाफ है।”

अमोल पालेकर ने दी प्रतिक्रिया राहुल रवैल की टिप्पणी पर