क्रिस प्रेट ने कहा, आदमियों को ऑब्जेक्ट के तौर बढ़ावा मिले

'जुरासिक वर्ल्ड' स्टार क्रिस प्रेट ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में कहा कि उन्हें लगता है कि फ़िल्म इंडस्ट्री में उनके जैसे आदमियों को और भी ज़्यादा ऑब्जेक्ट की तरह देखा जाना चाहिए। क्रिस ने कहा, पूरी तरह से ऑब्जेक्ट हो। आगे उन्होंने कहा, "मेरे ख्याल में यह एक दम सही है इसमें हैरानी की कोई बात नहीं है। हैरानी तो इस बात पर होना चाहिए की इतने लम्बे समय तक सिर्फ औरतों को ही ऑब्जेक्ट के तौर पर पेश किया गया। लेकिन अगर आप समानता की बात करते हैं तो तो ज़रुरु है की अब चीज़ें बराबर हो।"

"अगर आदमियों को इस तरह पेश नहीं करना है तो औरतों को भी ना करें। इससे कई औरतों का करियर बन गया और मैं भी इसे अपने फायदे के लिए इस्तेमम्ल कर रहा हूँ। और आख़िरकार हम सबका शरीर एक ऑब्जेक्ट ही तो है। हम हाड़ मांस से ज़्यादा कुछ भी नहीं है," उन्होंने कहा।

रेडियो 4 के फ्रंट रौ में यह पूछे जाने पर कि क्या वज़न काम करना और शरीर को सुडोल बनाना उनके करियर के लिए सबसे पहली शर्त थी तो उनका था कि, "ऐसा कैलकुलेट करके नहीं किया पर हाँ ऐसा देखा जाये तो यह मेरे करियर का सबसे बड़ा हिस्सा था और मैं केसा दिखता हूँ इससे मेरे करियर को काफी मदद मिली।"

प्रेट पहले भी अपनी बॉडी में बदलाव पर बात कर चुके हैं और बता चुके हैं कि वो इसके ज़रिये अपनी इमेज बदल सकते हैं यह उन्हें पसंद है। "यह जान कर अच्छा लगता है कि में अपने लुक में बदलाव कर सकता हूँ। एक एक्टर के तौर पर यह काफी अच्छा है। कई सालो से मेने कई मास्क लगाये हैं और कई कॉस्ट्यूम पहने हैं यह मेरे लिए कुछ वैसा ही है जिसमे मैं अच्छा दीखता हूँ," उन्होंने कहा।

क्रिस प्रेट ने कहा, आदमियों को ऑब्जेक्ट के तौर बढ़ावा मिले
loading..