ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !

अपनी मनमोहक मुस्कान से लाखों दिलों पर राज करने वाली जूही चावला भले ही अब फिल्मों में कम नज़र आती हैं लेकिन के दौर था जब जूही की अदाओं का जादू न सिर्फ बॉलीवुड में बल्कि साउथ फिल्म इंडस्ट्री में भी खूब चलता था। 13 नवंबर 1967 को अम्बाला में जन्मी जूही का बचपन से ग्लैमर वर्ल्ड की तरफ रुझान था इसलिए उन्होंने साल 1984 में 'मिस इंडिया' कांटेस्ट में भाग लिया और जीतीं भी।

मिस इंडिया 1984 का ख़िताब अपने नाम करने के बाद उन्होंने 'मिस यूनीवर्स' कांटेस्ट में हिस्सा लिया। ये कांटेस्ट वो जीती तो नहीं लेकिन उन्हें 'बेस्ट नेशनल कॉस्ट्यूम्स' अवार्ड से नवाज़ा जरूर गया। मिस इंडिया बनने के बाद उन्हें फिल्मों और विज्ञापनों से खूब ऑफर्स आये। इसके बाद उन्होंने फिल्म 'सल्तन' से अपने बॉलीवुड करियर की शरुआत की। ये फिल्म जरूर फ्लॉप हो गई लेकिन जूही की गाड़ी निकल पड़ी। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और अपने फ़िल्मी करियर में बहुत सी हिट फ़िल्में दी।

जूही के इन 5 बेस्ट किरदारों को आप भी शायद नहीं भूल पाए होंगे -

क़यामत से क़यामत तक

अपनी करियर में जूही ने आमिर के साथ बहुत सी फ़िल्में की हैं जिसमें से ज़्यादातर फ़िल्में हिट साबित हुई हैं। ये दोनों की साथ में पहली फिल्म थी। फिल्म में दोनों ने कमाल की एक्टिंग की थी जिसके लिए जूही ने फिल्मफेयर बेस्ट न्यू कमर का अवार्ड भी अपने नाम किया था। ये फिल्म दोनों के करियर के लिए मील का पत्थर साबित हुई। 

ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !

हम हैं राही प्यार के

फिल्म 'क़यामत से कयामत तक' के सफल हो जाने के बाद दोनों ' हम हैं राही प्यार के' में भी नज़र आये। फिल्म उस साल की बेहतरीन फिल्मों में से एक साबित हुई। म्यूजिक और जूही आमिर की केमेस्ट्री सुपरहिट रही। इस फिल्म के लिए जूही ने फिल्मफेयर बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड भी जीता। 

ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !

आइना

1993 में आई ये फिल्म 90 के दशक की सबसे सफल फिल्मों में से एक थी। फिल्म में जूही के अलावा अमृता सिंह, जैकी श्रॉफ मुख्य किरदार में थे। फिल्म में जूही के साधारण सी दिखने वाली लड़की के किरदार में होती है जिसे बचपन से एकर बड़े होने तक अपनी बड़ी बहन के दबाव में रहना पड़ता है। अपनी खुशियां बहन को दे देने वाली जूही ने इस फिल्म में कमाल कर दिया। ये फिल्म उस समय हर घर में पॉपुलर हुई और बाद में तमिल, तेलुगु और कन्नड़ भाषा में भी इसका रीमेक बनाया गया।

ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !

डर

शाहरुख़ खान के करियर को ऊंचाइयों तक ले जाने वाली ये फिल्म सिर्फ शाहरुख़ की वजह से ही सुपरहिट नहीं हुई थी। इस फिल्म में जूही चावला का भी उतना ही योगदान था। फिल्म जूही लीड रोल में थी। फिल्म में उनके किरदार का नाम किरण था, जिस पर सबसे पॉपुलर गाना फिल्माया गया था। उस समय जूही पर फिल्माया ये गाना इतना हिट हुआ था कि जूही को लोग किरण बोलकर ही चिढ़ाने लगे थे। आज भी लोग उसी गाने के बोल से उन्हें पुकारते हैं।

ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !

 दीवाना -मस्ताना

जहाँ एक तरफ जूही सीरियस किरादर निभाए हैं तो वहीं दूसरी तरफ उनका मज़ाकिया अंदाज़ भी हमें देखने को मिला। अपनी अजब की हसीं से हम सबको अपना दीवाना बनाने वाली जूही फिल्म दीवाना-मस्ताना में खूब कॉमेडी करती नज़र आई। इस फिल्म में वो डॉ नेहा के किरादर में होती हैं जो बुन्नू यानी की गोविंदा का इलाज़ कर रही होती हैं। वहीं राजा नाम का टपोरी गुंडा यानी अनिल कपूर उन्हें अपना दिल दे बैठते हैं। फिल्म काफी मज़ेदार थी जिसे आज भी हम नहीं भूले हैं।

ये रहा सबूत जूही चावला के बिना शाहरुख़ और आमिर खान का करियर अधूरा होता !